मंगलवार, जुलाई 07, 2009

ख्व़ाब छीने, याद भी सारी पुरानी छीन ली...

ख्व़ाब छीने, याद भी सारी पुरानी छीन ली
ख्व़ाब छीने, याद भी सारी पुरानी छीन ली
वक़्त ने हमसे हमारी हर कहानी छीन ली।
पर्वतों से आ गई यूँ तो नदी मैदान में
पर उसी मैदान ने सारी रवानी छीन ली।
दौलतों ने आदमी से रूह उसकी छीनकर
आदमी से आदमी की ही निशानी छीन ली।
देखते ही देखते बेरोज़गारी ने यहाँ
नौजवानों से समूची नौजवानी छीन ली।
इस तरह से दोस्ती सबसे निभाई उम्र ने
पहले तो बचपन चुराया फिर जवानी छीन ली।
पर्वतों से आ गई यूँ तो नदी मैदान में
पर उसी मैदान ने सारी रवानी छीन ली।
दौलतों ने आदमी से रूह उसकी छीनकर
आदमी से आदमी की ही निशानी छीन ली।
देखते ही देखते बेरोज़गारी ने यहाँ
नौजवानों से समूची नौजवानी छीन ली।
इस तरह से दोस्ती सबसे निभाई उम्र ने
पहले तो बचपन चुराया फिर जवानी छीन ली।

4 Responzes:

PCG ने कहा…

बहुत बढिया, बुरा न माने तो चार लाइने मैं भी कहू;

पथिक बनकर पाने को मंजिल हम चले थे जोश में
भीड़ ने राह में हमसे हमारी, चाल तूफानी छीन ली

जब सोचा, चलो बता दे हाल-ए-दिल अब किसी को
जिन्दगी ने तब तक हमसे हमारी जिंदगानी छीन ली

PCG ने कहा…

गलती के लिए क्षमा :
आख़िरी पंक्ति इस तरह से पढ़े :
मौत ने तब तक हमसे हमारी जिंदगानी छीन ली

AlbelaKhatri.com ने कहा…

gazab kar diya ji...........

kya baat kah di...

bahut khoob !

Ram Krishna Gautam ने कहा…

Thnk You Godiyaal Saab...

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

Blogspot Templates by Isnaini Dot Com. Powered by Blogger and Supported by Best Architectural Homes